Home » Dunki Songs Lyrics » Nikle The Kabhi Hum Ghar Se Lyrics – Dunki

Nikle The Kabhi Hum Ghar Se Lyrics – Dunki

Nikle The Kabhi Hum Ghar Se Song Lyrics penned by Javed Akhtar, music composed by Pritam, and sung by Sonu Nigam from the Bollywood movie ‘DUNKI‘.

Nikle The Kabhi Hum Ghar Se Song Credits

Dunki Release Date – 21 December 2023
DirectorRajkumar Hirani
ProducersGauri Khan, Rajkumar Hirani, Jyoti Deshpande
SingerSonu Nigam
MusicPritam
LyricsJaved Akhtar
Star CastShah Rukh Khan, Taapsee Pannu
Music Label ©

Nikle The Kabhi Hum Ghar Se Lyrics in English

Nikle The Kabhi Hum Ghar Se
Ghar Dil Se Magar Nahi Niklaa
Ghar Basa Hai Har Dhadkan Mein
Kya Karein Hum Aise Dil Ka

Badi Door Se Aaye Hain
Badi Der Se Aaye Hain
Par Yeh Na Koyi Samjhe
Ham Log Paraaye Hain

Kat Jaaye Patang Jaise
Aur Bhatke Hawaon Mein
Sach Pucho Toh Aise
Din Humne Bitaye Hain

Par Yeh Na Koyi Samjhe
Hum Log Paraye Hain

Yehi Nagar Yehi Hai Basti
Aankhein Thi Jise Tarasti
Yahan Khushiyan Thi Kitni Sasti

Jaani Pehchaani Galiyan
Lagti Hai Puraani Sakhiyan
Kahan Kho Gayi Woh Rang Raliyaan

Baazaar Mein Chai Ke Dhabe
Bekaar Ke Shor Sharaabe
Woh Dost Woh Unki Baatein
Woh Saare Din Sab Raatein

Kitna Gehra Tha Gham
Inn Sab Ko Khone Ka
Yeh Keh Nahi Paaye Hum
Dil Mein Hi Chupaaye Hain

Par Yeh Na Koyi Samjhe
Hum Log Paraye Hain

Nikle The Kabhi Hum Ghar Se
Ghar Dil Se Magar Nahi Nikla
Ghar Basa Hai Har Dhadkan Mein
Kya Karein Hum Aise Dil Ka

Kya Humse Hua Kya Ho Na Saka
Par Itna Toh Karna Hai
Jis Dharti Pe Janme The
Uss Dharti Pe Marna Hai

Jis Dharti Pe Janme The
Us Dharti Pe Marna Hai

Nikle The Kabhi Hum Ghar Se Lyrics in English

निकले थे कभी हम घर से
घर दिल से मगर नहीं निकला
घर बसा है हर धड़कन में
क्या करें हम ऐसे दिल का

बड़ी दूर से आए हैं
बड़ी देर से आए हैं
पर ये न कोई समझे
हम लोग पराए हैं

कट जाए पतंग जैसे
और भटके हवाओं में
सच पूछो तो ऐसे
दिन हमने बिताए हैं

पर ये ना कोई समझे
हम लोग पराए हैं

यही नगर यही है बस्ती
आँखें थीं जिससे तरसती
यहाँ खुशियाँ थीं कितनी सस्ती

जानी पहचानी गलियाँ
लगती हैं पुरानी सखियाँ
कहाँ खो गई वो रंग रलियाँ

बाजार में चाय के ढाबे
बेकार के शोर शराबे
वो दोस्त वो उनकी बातें
वो सारे दिन सब रातें

कितना गहरा था ग़म
इन सब को खोने का
ये कह नहीं पाए हम
दिल में ही छुपाए हैं

पर ये ना कोई समझे
हम लोग पराए हैं

निकले थे कभी हम घर से
घर दिल से मगर नहीं निकला
घर बसा है हर धड़कन में
क्या करें हम ऐसे दिल का

क्या हमसे हुआ क्या हो न सका
पर इतना तो करना है
जिस धरती पे जन्मे थे
उस धरती पे मरना है

जिस धरती पे जन्मे थे
उस धरती पे मरना है

Read More From DUNKI

Scroll to Top